भारत का गौतम बुद्ध विश्वविद्यालय दुनिया के श्रेष्ठ विश्वविद्यालय में से एक है ।

गौतमबुद्धविश्वविद्यालय है जो 511 एकड़ एरिया में फैला हुआ है, जिसमे 50000 से ज्यादा हरे भरे पेड़ लगाए हुए है। यह विश्यविद्यालय बसपा के कार्यकाल में बना था ।

गौतम बुद्ध नगर, उत्तर प्रदेश का मुख्य एकेडमिक ब्लॉक है। जिसमें तथागत बुद्ध द्वारा प्रतिपादित सम्यक जीवन के लिए आठ मग्गो को आधार मानकर बनाये गए आठ संकाय नजर आ रहे हैं । यह विश्वविद्यालय (महाविहार) नालंदा, तक्कसिला, विक्कमसिला, जगदल्ला, ऊदंतपुरी, सोमपुरा, वल्लभी एवं पुस्पागिरी जैसे विश्व विख्यात एवं विश्वस्तरीय विश्वविद्यालयों की महान बौद्धिक परम्परा को आगे बढ़ाता हुआ, बौद्ध स्थापत्य कला की एक अद्भुत एवं उत्कृष्ट कलाकृति का जीता जागता उदाहरण है। यह वर्तमान में दुनिया का शायद सबसे खूबसूरत शैक्षिक परिसर है इतना सुरुचिपूर्ण एवं व्यवस्थित कि देखते ही मन को भा जाये। यहां बना बौधिसत्व डा. आंबेडकर पुस्तकालय, गोलाकार मध्य में स्थित तथागत बुद्ध की प्रतिमा के ठीक पीछे स्थित है संस्था के बौद्धिक सिरमौर के रूप में #बुद्धिहीसबकुछहै

#बुद्धिसाधनामानवीयजीवनकामहानतमउपक्रम_है जैसे कालजयी दर्शन एवं सिद्धांतों को चरितार्थ करता हुआ नजर आता है। 2000 स्टूडेंट्स के एक साथ बैठकर अध्ययन करने की सुविधा के साथ यह पुस्तकालय, एशिया का सबसे बड़ा, लगभग दो लाख स्कायर फुट कार्पेट एरिया में बना हुआ है। यह भारत का एक मात्र विश्वविद्यालय है जो अपने छात्रो को अंतिम सत्र में विश्व के सर्वश्रेष्ठ विश्वविद्यालयों (अमेरिकन-यूरोपियन) भेजता था l हालांकि इस स्कीम को पिछली सरकार (सपा) ने बन्द करा दिया था जिसके लिए उसे माफ करना मुश्किल है। इस योजना को पुनः शुरू करने की सख्त जरूरत है । विशाल स्तूपाकार जोतिबा फूले मेडिटेशन सेंटर बहुत ही भव्य एवं विलक्षण है जो विश्वविद्यालय को एक अलग ही पहचान देता है। स्टूडेंट्स के आलआउट विकास के लिए मान्यवर कांशीराम खेल कूद परिसर आधुनिक अंतरराष्ट्रीय सुविधाओं से सुसज्जित है।

ब्रिटिश पार्लियामेंट के बाहर स्थित लंदन स्क्वायर की तर्ज पर बना सामाजिक परिवर्तन प्रतीक स्थल, जहां सामाजिक परिवर्तन आंदोलन के नौ पुरोधाओं की बहुत ही खूबसूरत बोलती हुई प्रतिमाएं एंव विश्वविद्यालय का औचित्य सिलालेख स्थापित है, बहुत ही सुखद एवं भव्य मजंर बनाता हैं। प्रशासनिक भवन के सामने, बाबा साहब द्वारा 14 अक्टूबर 1956 को नागपुर में भिक्खु चंदामणि महाथेरो एवं चार अन्य भिक्षुओं से दिक्खा लेते हुए बना विहार प्रेरणादायक एवं निहायत ही सौम्य एवं सुरुचिपूर्ण है।

दुनिया की सभी महान शिक्षण संस्थानों की तरह यह भी पूरी तरह एक आवासीय विश्वविद्यालय है जहां 5000 स्टूडेंट्स के लिए 19 आधुनिक सिंगल सीटिड होस्टल (6 लडकियों व 13 लडकों ) हैं। सामाजिक परिवर्तन के लिये प्रतिबद्ध क्रान्तिकारियों के संघर्ष, बलिदान एवं विरासत को समर्पित ये छात्रावास सावित्रीबाई फूले, रमाबाई अम्बेडकर, महामाया, बिरसा मुंडा, कबीर साहेब, संत रविदास, गुरु घासी दास साहूजी महाराज, नारायणा गुरु आदि के नाम पर रखे गये हैं । साथ ही टीचर्स के लिए 750 सुरुचिपूर्ण, सुविधाजनक एवं सम्मानजनक पंचसील आवासीय परिसर का निर्माण किया गया है।

और भी बहुत कुछ है यहां जो अद्भुत, अकल्पनीय एवं विशेष है।

एक बार, 2011 में जब यह विश्वविद्यालय लगभग तैयार हो चुका था, तो #प्रोफेसरतुलसीराम जी, जो अन्यथा बहनजी के बहुत ही निर्मम आलोचक रहे हैं, कई अन्य साथियों के साथ GBU आये थे। विश्वविद्यालय की भव्यता, विशालता, स्थापत्य कला एवं सैद्धांतिकी को देखकर बेबस ही सर की आंखें नम हो आई थी और फिर भाव-भिवोर संजीदा होकर कहने लगे कि इस महान ऐतिहासिक कार्य के लिए मायावती के हजार खून माफ ।

तमाम राजनैतिक विरोध के बावजूद, अगर आज भी आप गौतम बुद्ध विश्वविद्यालय आयेंगे तो निश्चित ही अपना नज़रिया बदलने पर मजबूर हो जायेंगें।

देश को ऐसे सेंकड़ों विश्वविद्यालयों की जरूरत है।

उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री एवं सांसद और बीएसपी अध्यक्ष बहन कु मायावती जी ने आज ही के दिन यानि दिनांक #28_अगस्त1997 को #गौतमबुद्ध_विश्वविद्यालय” का शिलान्यास किया था।

प्राचीन बौद्ध विधालय के अवशेष

साभार – प्रेम प्रकाश जी की वाल से रिटेन बाय Jasvir Singh Garhi

2 Comments

  1. बहुत बहुत धन्यवाद आदरणीय भाई राजेश पासी जी, हमारी-आपके लिए शुभ कामनाएं। आप इसी तरह से अपने समाज के महा पुरुषो के बारे में अध्ययन कर के हमारे अपने समाज के लोगों के लिए लिखते रहिये। भविष्य में समय निकाल कर भगवान गौतम बुद्ध विश्वविद्यालय को विज़िट करके स्वयं को धन्य करके, साथ ही साथ अपने समाज के लोगों के लिए प्रेरणा का स्रोत अवश्य ही बनना चाहता हूँ। आप पूरे समाज के प्रेरणा स्रोत तो हैं ही। जय विज्ञान, जय संविधान नमो बुद्धाय …..

    Like

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s