नेहरू देश के निर्माण का खाका खींचा ,वे हमेशा देशवासियों के दिलो में जिंदा रहेंगे- सुशील पासी

(पं. नेहरू के जन्मदिवस के अवसर पर एनजीबीयू में “नेहरू के सपनाे का भारत” विषयक संगाेष्ठी आयाेजित में बोलतें हुए कुलाधिपति जेएन मिश्र)

नेहरू ग्राम भारती विश्वविद्यालय में 14 नवंबर भारत के प्रथम प्रधानमंत्री के जन्मदिवस (बाल दिवस )के अवसर पर सेमिनार-‘ नेहरू के सपनों का भारत ‘ का आयोजन हुआ । सर्वप्रथम संगाेष्ठी में आए हुए अतिथियाें पं. नेहरू के चित्र पर पुष्प अर्पित कर उन्हें श्रद्धांजलि दी. कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए कुलाधिपति जे.एन. मिश्र ने अपने सम्बाेधन में कहा कि नेहरू के विजन एवं गांधी के मिशन से देश का विकास हुआ है. शाेध विज्ञान एवं तकनीक काे ध्यान में रखकर पं. नेहरू ने एक मानवतावादी एवं समतामूलक भारत के सपने काे लेकर आगे बढ़े. ग्रामीणांचल में स्थित यह विश्वविद्यालय शाेध एवं शिक्षा के क्षेत्र में नेहरू के सपनाें काे चरितार्थ करने में रत है.

कार्यक्रम में मुख्यअतिथि के रूप में उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी के प्रदेश सचिव व प्रभारी (प्रयागराज फैज़ाबाद ,बाराबंकी) सुशील पासी शामिल हुए।

सुशील पासी ने सेमिनार को सम्बोधित करते हुए देश की हालातों पर चिन्ता ब्यक्त किया और कहा की मंहगाई, गरीबी, बेरोजगारी को दूर कर समृद्ध भारत का सपना अगर किसी ने देखा तो वो पंडित नेहरू जी ही थें। वो धर्मनिरपेक्षता के आधार पर देश में भाईचारा ,शान्ति व अमन चाहतें थे। उन्होंने अपने विरोधियों को भी कैबिनेट में जगह देकर देश निर्माण में भागीदारी बनाया ।

श्री पासी ने आगे कहा नेहरू समता ,बंधुत्व व न्याय के पक्षधर थें। नेहरू जी ने देश मे लोकतंत्र की स्थापना करके सबकी तरक्की का नया रास्ता खोल दिया। उनकी नीतियों का लोहा विश्व के नेताओँ ने माना था। आज उन्हें बदनाम करने की असफल कोशिश की जा रहीं लेकिन नेहरू देश के इंसानी दिलों में हमेशा जिंदा रहेंगे।

इस अवसर पर विश्वविद्यालय के कुलपति प्राे. पी.एन. पाण्डेय, प्रतिकुलपति डॉ. एस.सी.तिवारी, प्राे. राम किशाेर शास्त्री ने भी सम्बाेधित किया. संचालन डॉ. धर्मेन्द्र शुक्ला एवं धन्यवाद ज्ञापन डॉ. प्रवीण मिश्र ने किया इस अवससर पर डॉ प्रमाेद मिश्र, डॉ सव्यसाची, राम प्रवेश पासी अजय प्रकाश सरोज , हरदेव सिंह , अजीत भारती, अरुण कुमार पटेल , प्रवीण मिश्र, पंकज यादव,निरेन उपाध्याय सहित बड़ी सख्या में छात्र छात्राएँ उपस्थित रहें।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s