चमारी बामणी बणी ! राजस्थान के स्कूल कॉलेजों में अब ऐसी कहानियां पढ़ने को मिलेगी !

हाल ही में पुणे से एक खबर आई कि एक महिला वैज्ञानिक ने अपनी नौकरानी पर मुकदमा दर्ज करवाया कि उसने मराठा हो कर फर्जी पंडिताइन बन कर उसके घर मे खाना बनाया ,जिससे असली पंडिताइन जो कि वैज्ञानिक है ,उसका धर्म भ्रष्ट हो गया ,भारतीय दंड संहिता की धारा 419 एवम 504 के तहत मराठा नौकरानी पर प्रकरण बनाया गया है ,जिसकी जांच जारी है . इस खबर से यह साबित होता है कि आज भी भारतीय सवर्ण समाज मे जातिवाद ,छुआछूत और भेदभाव भयंकर रूप में हावी है तथा चाहे कोई वैज्ञानिक ही क्यों न हो ,उसकी मानसिकता उतनी ही दूषित ,मैली ,कूपमण्डूक और अवैज्ञानिक ही बनी रहती है . दुःख की बात है कि आज भी एक मराठा नौकरानी को छद्म ब्राह्मणी बनकर रसोइये की नौकरी करनी पड़ती है और पकड़े जाने पर मुकदमा झेलना पड़ता है ,शर्म आती है ऐसी जातिवादी सोच की वैज्ञानिक पर और उस व्यवस्था पर जो ऐसे हास्यास्पद मामलों में मुकदमे दर्ज कर लेती है और उनकी जांच भी करती है ,दलितों के खिलाफ निकलने वाले मराठा मोर्चे इस अपमानजनक घटना पर मूक बने रहते है आखिर भारत की महान संस्कृति में ऐसी घटिया मानसिकता निर्मित कहाँ से होती है ? भारत के सवर्णों को ऐसा अवैज्ञानिक छुआछूत सिखाता कौन है ? यह भेदभाव की मानसिकता किसी फेक्ट्री में बनती है या किसी खेत मे उगती है ? शायद यह दूषितपन यहां की संस्कृति और संस्कार का हिस्सा है.यह मानसिकता अनपढ़ ग्रामीणों से लेकर कुपढ़ वैज्ञानिकों ,इंजीनियरों ,वकीलों आदि इत्यादि सबमे पाई जाती है और यह यहां की सभ्यता ,संस्कृति व साहित्य में भी घनघोर रूप में व्याप्त है।

ऐसी ही जातिवादी मानसिकता के धनी एक लेखक गोविंद अग्रवाल ने अपनी मैली ,घृणित विचार शैली का प्रदर्शन किया है ,उनकी लिखी किताब ‘राजस्थानी लोककथाएं ‘ में उन्होने एक कहानी लिखी है -“चमारी बामणी बणी”,जिसे राजस्थानी ग्रन्थागार ,जोधपुर ने छापा है . इस कहानी को पढ़िये “पहाड़ी की घाटी में एक बुढ़िया ब्राह्मणी रहा करती थी ,वह यात्रियों के लिए खाना बना दिया करती थी.. वह मर गयी तो एक चमारी ने सोचा कि क्यों न मैं बुढ़िया का स्थान ले लूं ? अच्छी आय के साथ साथ सम्मान भी मिलेगा ! ..एक दिन दो दर्शनार्थी आये ,उनके लिये काचरों की साग व रोटी बनाई ..यात्रियों ने सराहना की ..ब्राह्मणी माई तूने साग तो बहुत अच्छी बनाई …तब उसने कहा ..आज मेरी रांपी ( चमारों का औजार ) नही मिली ,इसलिए दांत से काट कर काचरों का साग बनाया ..सुनकर यात्री सन्न रह गए और उन्हें निश्चय हो गया कि औरत ब्राह्मणी नही चमारी है “. यह किताब राजस्थानी के प्रतिष्ठित कहे जाने वाले प्रकाशन ने प्रकाशित ही नही की बल्कि इस कहानी को कार्ड पेपर पर बाकायदा लेमिनेटेड करके अपने सूचि पत्र के साथ राजस्थान की हर स्कूल तथा कॉलेज में भिजवाया है ,ताकि वहां के पुस्तकालयों में इस तरह की जातिवादी भेदभाव वाला साहित्य रखा जा सके और उसे हर विद्यार्थी पढ़े. जैसे ही इसकी भनक मिली है लेखक गोविंद अग्रवाल तथा प्रकाशक राजस्थानी ग्रन्थागार का उनकी इस कुत्सित सोच के लिए कड़ी निंदा हो रही है तथा राजस्थान के दलित बहुजन संगठनों ने राज्य सरकार से यह मांग की है कि इस पुस्तक पर तुरंत रोक लगाई जाए और लेखक तथा प्रकाशक के विरुद्ध कड़ी कानूनी कार्यवाही की जाए अन्यथा आंदोलन किया जाएगा . पुणे की घटना और राजस्थान में चल रहा यह प्रकरण साबित करता है कि पिछड़े और दलित वर्ग के प्रति आज भी भारतीय सवर्ण समाज कैसी सोच रखता है ? वाकई गोविंद अग्रवाल जैसे लेखक और राजस्थानी ग्रन्थागार जैसे प्रकाशक इस तरह खुलेआम जातिवाद फैलाने और वर्ग विशेष के प्रति घृणा पैदा करने के जुर्म में जेल जाने के हकदार है ,उम्मीद है कि सरकार इस पर ध्यान देगी ,नही देगी तो अम्बेडकरवादी लोग उन्हें जरूर सबक सिखाएंगे ही ..

लेखक- भंवर मेघवंशी,राजस्थान

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s