शहीद पत्रकार राम चन्दर छत्रपति ,जिन्होंने बलात्कारी बाबा के ख़िलाफ़ खोला था मोर्चा

पत्रकार स्व0 राम चन्द्र छत्रपति जी

चंडीगढ़। डेरा सच्चा सौदा के चीफ बाबा राम रहीम पर दो साध्वी के साथ रेप का आरोप है, इस मामले में पंचकुला स्थित सीबीआई की विशेष अदालत आज अपना फैसला सुनाएगी। लेकिन बाबा राम रहीम पर इस रेप के अलावा एक हत्या का भी मामला दर्ज है जिसकी कम ही लोगों को जानकारी है। राम रहीम पर पत्रकार रामचंद्र छत्रपति की हत्या का भी आरोप है, रामचंद्र के बेटे को आज भी एक अदद अपने पिता की हत्या के मामले में इंसाफ का इंतजार है। दरअसल रामचंद्र ने अपने अखबार के जरिए राम रहीम के खिलाफ 15 वर्ष पहले साध्वी के साथ रेप का मामला उजागर किया था। दरअसल पत्रकार ने जो चिट्ठी अपने अखबार में छापी थी वह तत्कालीन प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी, चीफ जस्टिस पंजाब और हरियाणा हाईकोर्ट सहित कई लोगों को भेजी गई थी। यह चिट्ठी एक अज्ञात महिला का था, जिसने बाबा राम रहीम पर रेप का सनसनीखेज आरोप लगाया था।

रामचंदर छत्रपति की 24 अक्टूबर 2002 में उनके घर पर प्वाइंट ब्लैंक पर गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। यह हत्या राम रहीम के खिलाफ साध्वी के साथ रेप की खबर अखबार में छपने के कुछ महीने बाद ही की गई थी। अखबार में एक पत्र छापा गया था जिसमें लिखा गया था कि जब दो साध्वी राम रहीम के आश्रम पर शांति के लिए गईं तो बाबा राम रहीम ने उनके साथ रेप किया था। रामचंदेर के बेटे अंशुल ने पिछले 15 साल से अपने पिता की हत्या के खिलाफ इंसाफ की लड़ाई लड़ रहे हैं।

बलात्कारी राम रहीम

अंशुल बताते हैं कि जिस वक्त मेरे पिता की हत्या की गई तो मेरी उम्र सिर्फ 21 वर्ष थी और मुझे पता नहीं था कि मैं इंसाफ के लिए कहां जाउं, पुलिस ने अपनी एफआईआर में डेरा चीफ का नाम नहीं दर्ज किया। जिसके बाद मैंने पंजाब और हरियाणा हाई कोर्ट में याचिका दायर की और जिसके बाद 2003 में यह मामला सीबीआई को सौंप दिया गया था। जबसे डेरा चीफ के खिलाफ अंशुल ने अपनी लड़ाई शुरू की उन्हें लगातार जान से मारने की धमकी मिलती रही, यही नहीं बहुत ही मुश्किलों से अंशुल अपने पिता के अखबार पूरा सच को चला रहे हैं। अंशुल कहते हैं कि मेरे पिता ने 28 दिन तक मौत से लड़ाई लड़ी थी, उन्होंने स्थानीय पुलिस को अपने बयान में डेरा चीफ को आरोपी तक बताया था, बावजूद इसके पुलिस ने डेरा चीफ का नाम एफआईआर में दर्ज नहीं किया और तभी से मेरी इंसाफ के लिए लड़ाई शुरू हुई थी।

बलात्कारी राम रहीम के साथ भाजपाई नेता

पिछले 15 साल से इंसाफ की लड़ाई लड़ रहे अंशुल के चेहरे में संघर्ष और चिंता का भाव साफ देखा जा सकता है। बाबा राम रहीम के खिलाफ कोर्ट के फैसले से पहले अंशुल ने अपने घर पर सीसीटीवी कैमरे लगवा लिए हैं। जब उनसे पूछा गया कि आपने सीसीटीवी कैमरे क्यों लगवाएं है तो उन्होंने बताया कि कल फैसला आने वाला है, ऐसे में यह जरूरी है। डेरा चीफ के खिलाफ ना सिर्फ पूरा सच अखबार के संपादक रामचंदेर छत्रपति की हत्या बल्कि डेरा के एक पुराने सदस्य की हत्या का भी आरोप 2002 में लगा था। इस व्यक्ति पर आरोप था कि उसने डेरा के सिरसा स्थित मुख्यालय में गलत कामों को उजागर किया था, जिसमें महिलाओं के साथ यौन शोषण बड़ा मुद्दा था।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s